शतावरी के फायदे पुरुषों और महिलाओं के लिए (Shatavari ke fayde or nuksan) : आपने कभी ना कभी शतावरी का नाम जरूर सुना होगा, प्राचीन समय से इंसान के स्वास्थ से सम्बंधित बीमारियो को दूर करने के लिए औषधियो का इस्तेमाल किया जाता है| शतावरी भी एक महत्वपूर्ण औषधि है जो पुरुषो और माहिलाओ दोनों के लिए लाभकारी होती है| हालाँकि शतावरी के फायदे महिलाओ के लिएज्यादा देखने को मिलते है, वैसे तो अधिकतर इंसान शतावरी के बारे में जानते ही है लेकिन काफी सारे इंसान ऐसे भी होते है जिन्हे शतावरी या शतावरी के फायदे के बारे में जानकारी नहीं होती है|

जिन इंसानो को शतावरी के बारे में जानकारी नहीं होती है वो अक्सर इंटेरनेट पर शतावरी क्या है?, शतावरी के फायदे कौन कौन से हैं, शतावरी के फायदे पुरुषों के लिए, शतावरी के फायदे महिलाओं के लिए ब्रेस्ट, शतावरी के फायदे महिलाओं के लिए प्रेगनेंसी, शतावरी टेबलेट के फायदे, पतंजलि शतावरी चूर्ण के फायदे , asparagus in hindi, shatavari benifits in hindi, shatavari benefits in hindi, shatavari churna ke fayde, shatavari ke fayde in hindiऔर शतावरी के फायदे और नुकसान इत्यादि लिखकर सर्च करते है|

Table of Contents

शतावरी क्या है? (What is Shatavari in Hindi?)


श॒तावरी को एक महत्वपूर्ण औषधि के रूप में जाना जाता है, शतावरी बेल या झाड़ (Shatavari Plant) के रूप वाली शतावरी (asparagus in hindi) एक जड़ी-बूटी है। इसकी लता फैलने वाली, और झाड़ीदारहोती है। एक-एक बेल के नीचे कम से कम 00, इससे अधिक जड़ें होती हैं। ये जड़ें लगभग 30-00 सेमी लम्बी, एवं -2 सेमी मोटी होती हैं। जड़ों के दोनों सिरे नुकीली होती हैं। इन जड़ों के ऊपर भूरे रंग का पतला छिलका रहता है। इस छिलके को निकाल देने से अन्दर दूध के समान सफेद जड़ें निकलती हैं। इन जड़ों के बीच में कड़ा रेशा होता है. जो गीली एवं सूखी अवस्था में ही निकाला जा सकता है।

शतावरी के प्रकार – Types of Asparagus in Hindi

ऊपर आपने जाना की शतावरी कया होती है (What is asparagus in hindi), अब हम आपको शतावरी के प्रकारो के बारे में जानकारी उपलब्ध करा रहे है, अधिकतर इंसानो को शतावरी के प्रकारो के बारे में जानकारी नहीं होती है| कुछ इंसान सोचते है की शतावरी केवल एक रंग की ही होती है जबकि यह सच नहीं है. चलिए अब हम आपको शतावरी के प्रकारो के बारे में जानकारी उपलब्ध करा रहे है

हरी शतावरी (Green Asparagus in Hindi )

भारत की बात करें तो भारत में हरी शतावरी (Green Asparagus in Hindi) सबसे ज्यादा देखने को मिलती है, हरी शतावरी में मौजूद औषधीय गुण और पोषक तत्व भरपूर मात्रा में पाए जाते है जो हमारे शरीर के लिए फायदेमंद होने के साथ साथ कई सारी बीमारियो को दूर करने में मददगार होते है| आमतौर पर हरी शतावरी का सेवन काफी ज्यादा किया जाता है|

सफेद शतावरी (White Asparagus in Hindi )

भारत में कुछ स्थानों पर सफ़ेद शतावरी (White Asparagus in Hind) भी देखने को मिल जाती है. सफ़ेद शतावरी को शतावरी का दूसरा प्रकार कहा जाता है| सफेद शतावरी के गुण और पोषक तत्व हरी शतावरी के समान ही होते है| सफेद शतावरी के सफेद होने का कारण यह है की इस प्रकार की शतावरी जमीन के अंदर उगती है, जमीन के अंदर उगने की वजह से उनका रंग सफेद होता है|

बैंगनी शतावरी

शतावरी का तीसरा प्रकार बैंगनी शतावरी (asparagus ) होता है. बैंगनी शतावरी अन्य शतावरी के मुकाबले ज्यादा फायदेमंद होती है क्योंकि बैंगनी शतावरी में एंटीऑक्सीडेंट्स अधिक मात्रा में मौजूद होते हैं। बैंगनी शतावरी भारत में कुछ स्थानों पर ही देखने को मिलती है और इस तरह को शतावरी को कम ही पकाया जाता है|

शतावरी के पौष्टिक तत्व – Asparagus Nutritional Value in Hindi

ऊपर आपने पढ़ा की शतावरी कया होता है (What is asparagus in hindi) ? शतावरी में पोषक तत्व प्रचुर मात्रा में पाए जाते है. काफी सारे इंसान ऐसे होते है जो शतावरी का सेवन करते है लेकिन उन्हें यह नहीं पता होता है की शतावरी में कौन कौन से पोषक तत्व मौजूद होते है तो हम आपको बता दें की शतावरी में ऊर्जा. प्रोटीन. कार्बोहाइड्रेट, फाइबर, कैल्शियम, फॉस्फोरस, आयरन, मैग्नेशियम, पोटैशियम, सोडियम, जिंक, विटामिन सी, थायमिन, रिबोफ्लेविन, फैटी एसिड, विटामिनबी-6,विटामिनबी-2, विटामिन ए. विटामिन ई, विटामिन डी इत्यादि प्रचुर मात्रा में पाए जाते है|

शतावरी के फायदे महिलाओ के लिए | shatavari Ke fayde mahilao ke liye

‘शतावरी के फायदे महिलाओ (shatavari ke fyde girls k liye) के लिए भी बहुत सारे होते है. जिनमे से कुछ फायदों के बारे में ज्जानकारी उपलब्ध करा रहे है| लेकिन एक बात का खास ख्याल रखें की फायदे किसी भी महिला को तभी प्राप्त हो सकते है जब आप शतावरी का सेवन सिमित और उचित मात्रा में करें.

गर्भवती महिलाओं के लिए फायदेमंद शतावरी का सेवन (Uses of Shatavari is Beneficial for Pregnant Women in Hindi)

शतावरी के फायदे प्रेग्नेंसी (Shatavari ke fayde or nuksan) में भी देखे जा सकते है, किसी भी महिला के लिए गर्भावस्‍था बहुत ज्यादा महत्वपूर्ण समय होता है| लेकिन इस समय पर महिला को अपना खास ख्याल रखना भी बेहद ज्यादा जरुरी है, ऐसे स्थिति में महिलाओ को ऐसी चीजे खाने की सलाह दी जाती है जो महिला और उसके गर्भ में पल रहे शिशु के लिए लाभकारी हो, अगर आप शतावरी के फायदे महिलाओं के लिए pregnancy या प्रेग्नेंसी में शतावरी के फायदे सर्च कर रहे है तो हम आपको बता दें की गर्भवती महिला और उसके गर्भ में पल रहे बा के लिए फोलेट बहुत ज्यादा लाभकारी होता है।


शतादरी में फोलेट प्रचुर मात्रा में पाया जाता है, फोलेट गर्भवती महिला और उसके गर्भ में पल रहे भ्रूण के स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में सहायक होता है| एक बात का ख़ास ख्याल रखें की शतावरी के फायदे जा में तभी प्राप्त होंगे जब आप शतावरी का सेवन सिमित मात्रा में करें इसीलिए हम आपको सलाह देंगे की प्रेग्नेंसी में शतावरी का सेवन करने से पहले महिला चिकित्सक से सलाह और परामर्श जरूर लें।

यूटीआई (यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन) में शतावरी के फायदे


वर्तमान में यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन की समस्या से पीड़ित महिलाओ की संख्या काफी ज्यादा हो गई है. काफी कम इंसानो को यह पता होता है की शतावरी के फायदे यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन या यूटीआई (shatavari ke fyde or nuksan) की समस्या को समाप्त करने में भी देखे जा सकते है|

शतावरी में मौजूद औषधीय गुण और जरुरी पोषक तत्व यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन की समस्या से आराम दिलाने में मददगार होते है| यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन की समस्या से छुटकारा पाने के लिए वैध या चिकित्सक की सलाह से शतावरी का सेवन करें|


पीरियड्स में होने वाली समस्याओ को दूर करने में शतावरी के फायदे


शतावरी के फायदे महिलाओ के लिए बहुत सारे होते है, पीरियड्स के समय पर अधिकतर माहिलाओ को कई सारी परेशानियों का सामना करना पड़ता है, पीरियड्स में होने वाली समस्याओ को दूर करने में शतावरी के फायदे देखे जा सकते है|

शतावरी में मौजूद औषधीय गुण और जरुरी पोषक तत्व पीरियड्स से पहले होने वाले या पीरियड्स के दौरान होने वाले दर्द और पीरियड्स के बाद होने वाले दर्द से छुटकारा दिलाने में सहायक होते है. इसके अलावा पीरियड्स को नियमित समय पर लाने में भी शतावरी के लाभ (shatavari ke fayde or nuksan) देखे जा सकते है|

शतावरी के फायदे महिलाओं के लिए breast | स्तनों में दूध बढ़ाने में शतावरी के फायदे (Benefits of Shatavari for increasing Breast Milk in Hindi)

काफी सारी महिलाओ को डिलीवरी के बाद पा कम आने या दूध कम बनने की परेशानी का सामना करना पड़ता है, ऐसे में महिलाएँ बहुत ज्यादा परेशान हो जाती है| शतावरी की जड़ के चूर्ण (shatavari powder) में मौजूद औषधीय गुण और जरुरी तत्व महिलाओ के शरीर में बनाने वाले दूध को बढ़ने में सहायक होते है, नियमित रूप से शतावरी की जड़ के चूर्ण का सेवन करने से जल्द दूध की मात्राबढ़ने लगती है|

शतावरी के लाभ (shatavari ke fayde or nuksan) डिलीवरी के बाद भी देखे जाते है, डिलीवरी के बाद महिला के शरीर में कई प्रकार की कमी हो जाती है उन कमियों को दूर करके महिलाओ के स्वास्थ को बेहतर बनाने में सहायक होता है|

शतावरी के फायदे पुरुषो के लिए | shatavari ke fayde purusho ke liye

ऊपर आपने शतावरी एक फायदे महिलाओ के लिए के बारे में जाना, अब हम आपको शतावरी के फायदे पुरुषो के लिए (shatavari ke fayde purusho ke liye) के बारे में जानकारी उपलब्ध करा रहे है| शतावरी के लाभ पुरुषो के लिए काफी सारे होते है. जिनमे से कुछ फायदों के बारे में हम आपको नीचे बता रहे है

स्पर्म काउंट बढ़ाने में शतावरी के लाभ

आज के समय में बहुत सारे पुरुष लो स्पर्म काउंट की समस्या का सामना कर रहे है, हालाँकि लो स्पर्म काउंट होने के कारण बहुत सारे होते है| अगर आप लो स्पर्म की समस्या से पीड़ित है और आप लो स्पर्म का घरेलु इलाज या स्पर्म काउंट बढ़ने की घरेलू दवा सर्च कर रहे है तो शतावरी आपके लिए लाभकारी साबित हो सकती है| शतावरी में मौजूद औषधीय और जरुरी पोषक तत्व लो स्पर्म काउंट की समस्या को दूर करने के साथ साथ स्पर्म काउंट को बढ़ाने में मददगार साबित होते है| नियमित रूप से रात को सोने से पहले शतावरी चूर्ण का सेवन दूध के साथ करने से जल्द लाभ मिलता है| लो स्पर्म काउंट की समस्या से जल्दी छुटकारा पाने के लिए शतावरी का इस्तेमाल चिकित्सक या वैध की सलाह से करें |

स्वप्नदोष द्वर करने में शतावरी के फायदे

वर्तमान में स्वप्रदोष की समस्या का सामना काफी सारे पुरुष कर रहे है. काफी सारे पुरुष अणि इस समस्या को किसी से नहीं बता पाते है| ऐसे में अधिकतर पुरुष स्वप्रदोष दूर करने का घरेलू इलाज या स्वप्रदोष की घरेलू दवा सर्च करते है, स्वप्रदोष की समस्या को दूर करने में शतावरी के फायदे देखें जा सकते है, स्वप्रदोष की दवा बनाने के लिए सबसे पहले ताजी शतावर की जड़ लेकर उसे महीन पीस कर पॉउडर बना लें, फिर शतावरी की जड़ का चूर्ण और मिश्री बराबर मात्रा में लेकर दोनों को पीसकर चूर्ण बना लें| नियमित रूप से इस मिश्रण का सेवन सुबह और शाम करने से बहुत जल्द स्वप्र दोष की परेशानी से छुटकारा मिलता है, शतावरी की कितनी मात्रा में सेवन करना चाहिए इसकी जानकारी वैध से लेने के बाद सेवन करें|

पुरुषो के शरीर में टेस्टोस्टेरोन बढ़ाने में शतावरी के फायदे

अगर आपके शरीर में टेस्टोस्टेरोन की मात्रा कम हो गई है तो हम आपको बता दें की टेस्टोस्टेरोन का स्तर बढ़ाने में शतावरी के लाभ देखे जा सकते है| शतावरी में मौजूद औषधीय गुण और जरुरी पोषक तत्व कम बढ़ाने में मददगार साबित होते है| नियमित रूप से शतावरी चूर्ण का सेवन सुबह और शाम करने से जल्द लाभ मिलता है, टेस्टोस्टेरोन बढ़ने के लिए शतावरी कासेवन वैध या चिकित्सक की सलाह से करें|

शतावरी का नाम अलग अलग भाषा में

ऊपर आपने शतावरी के फायदे (shatavari ke fayde) के बारे में पढ़ा, शतावरी को इंग्लिश में Asparagus के नाम से जाना जाता है| भारत के अलग अलग क्षेत्रों में अलग अलग भाषाएं बोली जाती है, अलग अलग भाषाओ में शतावरी को अलग अलग नामो से जाना जाता है| चलिए अब हम आपको शतावरी का नाम अलग अलग भाषाओ में बताने जा रहे है |

  • Asparagus in Hindi or Asparagus meaning in Hindi – सतावर, सतावरि, सतमूली, शतावरी
  • Shatavari in English – Wild Asparagus
  • Shatavari in sanskrit, Asparagus in Sanskrit – शतपदी, शतमूली
  • Shatavari in Urdu,Asparagus in Urdu – Satavra
  • Shatavari in Oriya,Asparagus in Oriya – Chhotaru Or Mohnole
  • Shatavari in Gujarati, Asparagus in Gujarati – Ekalkanata
  • Shatavari in Tamil, Asparagus in Tamil – Kilavari or Paniyinakku
  • Shatavari in Telgu, Asparagus in Telgu – Challagadda or Ettavaludutige
  • Shatavari in Bengali, Asparagus in Bengali – Shatamuli or Satmuli
  • Shatavari in Punjabi, Asparagus in Punjabi – Bozandan
  • Shatavari in Marathi, Asparagus in Marathi – Asvel
  • Shatavari in Malayalam, Asparagus in Malayalam – Shatavali
  • Shatavari in Nepali, Asparagus in Nepali – Satamuli Or Kurilo
  • Shatavari in Arabic, Asparagus in Arabic – Shaqaqul
  • Shatavari in Persian, Asparagus in Persian – Shaqaqul

शतावरी का उपयोग – How To Use Asparagus in Hindi

ऊपर आपने शतावरी के बारे में पढ़ा, लेकिन कुछ लोगो के मन में यह सवाल रहता है की आख़िर शतावरी का सेवन कैसे किया जाता है या शतावरी का उपयोग कैसे किया जाता है”चलिए अब हम आपको शतावरी एक उपयोग के बारे में जानकारी उपलब्ध करा रहे है. आमतौर पर शतावरी का उपयोग सब्जी से लेकर सलाद के रूप में किया जा सकता है, चलिए अब हम आपको शतावरी के उपयोग के बारे में जानकारी उपलब्ध करा रहे है |

  • आप शतावरी का सेवन जूस के रूप में भी कर सकते है लेकिन एक बात का ख्याल रखें की अगर आप शतावरी का जूस बनाना चाहते है तो आपके पास ताज़ी शतावरी होनी चाहिए|
  • शतावरी का इस्तेमाल उबाल कर भी किया जाता है| सलाद के साथ भी किया जा सकता है, सबसे पहले शतावरी को लेकर अच्छी तरह से धोकर ऊपर और नीचे से काट दें फिर शतावरी के छोटे छोटे टुकड़ें करके सलाद के साथ खा सकते है|
  • शतावरी का सेवन रोस्टेड करके भी किया जा सकता है|
  • शतावरी का इस्तेमाल सबसे ज्यादा शतावरी ड या शतावरी पाउडर के रूप में किया जाता है| शतावरी पॉउडर के फायदे काफी ज्यादा देखने को मिलते है. शतावरी पॉउडर का इस्तेमाल सूप में डालकर या पानी के साथ भी किया जा सकता है|

शतावरी के नुकसान – Side Effects Of Asparagus in Hindi

ऊपर आपने शतावरी के फाईदो के बारे में जानकारी प्राप्त की, लेकिन जकिसी चीज के फायदे है तो उसके कुछ गा भी जरूर होते है| वैसे अगर शतावरी का इस्तेमाल सिमित मात्रा में और सही तरीके से किया जाएं तो शतावरी के नुक्सान नहीं देखने को मिलते है| लेकिन अगर आप शतावरी का इस्तेमाल अधिक मात्रा में करते है या सही तरीके से सेवन नहीं करते है तो आपको शतावरी के नुक्सान झेलने पढ़ सकते है| चलिए अब हम आपको शतावरी के नुक्सान के बारे में जानकारी उपलब्ध करा रहे है |

  • ऊपर आप पढ़ चुके है की शतावरी के अंदर पोटेशियम प्रचुर मात्रा में मौजूद होता है, ऐसे में शतावरी का सेवन अधिक मात्रा में करने से शरीर में पोटेशियम की मात्रा बढ़ सकती है |
    हाइपरकलेमिया की परेशानी हो सकती है. हाइपरक्लेमिया की वजह से इंसान को सांस लेने में दिक्कत और सीने में जलन की परेशानी का सामना करना पढ़ सकता है|
  • शतावरी का अधिक मात्रा में सेवन करने की वजह से उल्टी या थकावट की परेशानी भी हो सकती है| शतावरी का सेवन अधिक करने की वजह से शरीर में कार्बोहाइड्रेट की मात्रा बढ़ सकती है जिसकी वजह से मोटापे की समस्या है |

निष्कर्ष – हम आशा करते है की आपको हमारे लेख शतावरी के फायदे पुरुषों और महिलाओं के लिए (shatavari ke fayde or nuksan) में दी गई जानकारी पसंद आई होगी, हालाँकि शतावरी के नुक्सान तभी देखने को मिलते है जब आप शतावरी का सेवन अधिक मात्रा में करें या गलत तरीके से इस्तेमाल करें, इसीलिए शतावरी का इस्तेमाल करने से पहले वेध से परामर्श जरूर लें। अगर आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी पसंद नहीं आई है तो आप गूगल या बिंग पर शतावरी के फायदे पुरुषों और महिलाओं के लिए (shatavari ke fayde or nuksan) लिखकर सर्च कर सकते है|

By Bryan

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *