Kela Se Bawaseer Ka Ilaj in Hindi

केला से बवासीर का इलाज (Kela Se Bawaseer Ka Ilaaj Ke 5 Best Upay In Hindi) – अगर आप बवासीर की समस्या से पीड़ित है और आप केला से बवासीर का इलाज सर्च कर रहे है तो यह लेख आपके लिए फायदेमंद हो सकता है| यह तो हम सभी जानते है की केला हमारे शरीर और पेट के लिए बहुत ज्यादा लाभकारी होता है, यह बात हम सभी जानते है की मेटाबोलिज्म हमारे शरीर के लिए काफी महत्वपूर्ण होता है| मेटाबोलिज्म हमारे पाचन तंत्र को बेहतर बनाने में भी अहम्‌ योगदान देता है, अगर पाचन तंत्र सही काम नहीं करता है तो इंसान को काफी सारी परेशानियो का सामना करना पड़ सकता है| अगर किसी भी इंसान को कब्ज की समस्या रहती है तो ऐसे इंसान को बवासीर की परेशानी होने की प्रबल संभावना होती है, कब्ज की वजह से बवासीर की परेशानी हो सकती है|

बवासीर की परेशानी से पीड़ित इंसान इंटरनेट पर केला से बवासीर का इलाज, केला से बवासीर का इलाज इन हिंदी, केले से बवासीर का इलाज कैसे करें, केले से बवासीर का इलाज बताएं, केला से पाइल्‍स का इलाज, केला से बवासीर का अचूक इलाज, केले से बवासीर का रामबाण इलाज, कपूर और केला से बवासीर का इलाज, Kela Se Bawaseer Ka Ilaj in Hindi, Kela Se Piles Ka Ilaaj इत्यादि लिखकर सर्च करते है| चलिए अब हम आपको केला से बवासीर का इलाज के बारे में
‘जानकलारी उपलब्ध करा रहे है|

केला से बवासीर का इलाज, केला से पाइल्‍स का इलाज इन हिंदी, Kela Se Bawaseer Ka Ilaj in Hindi

बवासीर की परेशानी से छुटकारा दिलाने में केला अहम्‌ रोल निभाता है, चलिए अब हम आपको केला से बवासीर का इलाज करने के तरीको के बारे में जानकारी उपलब्ध करा रहे है –

केला से बवासीर का इलाज

अगर आपका पेट ख़राब है या आपका पाचन तंत्र सही से काम नहीं कर रहा है और आप कोई घरेलू उपाय सर्च कर रहे है तो अधिकतर इंसान आपको केले खाने की सलाह देते है दरसल केले में मौजूद औषधीय गुण आपके डाइजेशन यानी पाचन तंत्र को बेहतर बनाने में मददगार होते है| बवासीर होने का कारण कब्ज भी होता है अगर कब्ज का इलाज ना किया जाएँ तो बवासीर की परेशानी बढ़ती रहती है ऐसे में केला आपके लिए उपयोगी साबित होता है| नियमित रूप से केले का सेवन करने से आप कब्ज की समस्या से छुटकारा पा सकते है और अगर आप कब्ज की समस्या से मुक्त रहेंगे तो बवासीर की परेशानी कम होने लगती है| केले के गुणों को देखते हुए काफी इंसान केले को बवासीर का रामबाण इलाज भी कहते है|

केले के छिलके से बवासीर का इलाज -Kela Se Bawaseer Ka Ilaj In Hindi

केला बहुत ज्यादा लाभदायक होता है यह तो हम सभी भली भाँती जानते ही है, लेकिन केले का छिलका भी कम उपयोगी नहीं होता है| केले के छिलके में मौजूद पोषक तत्व त्वचा के लिए लाभकारी होते है| यह तो आप जानते ही है की बवासीर दो तरह की होती है पहले अंदरूनी और दूसरी बाहरी| केले का छिलका बाहरी बवासीर की परेशानी को समाप्त करने में सहायक होता है, सबसे पहले एक केला लेकर उसे अच्छी तरह से धो लें, फिर केले का छिलका उतार लें, फिर केले का छिलका और थोड़ा विच हेजल डालकर ग्राइंडर की मदद से महीन पेस्ट या लेप बना लें| इस लेप को बवासीर या बवासीर के मस्सो पर अच्छी तरह से लगाने से जल्द बवासीर के मस्से सुख जाते है| इस घरेलु नुस्खे को केला से बवासीर का इलाज इन हिंदी या केला से पाइल्‍स का इलाज के नाम से भी जाना जाता है|

केले के तने के रस से करें बवासीर के मस्सो का इलाज

केले का छिला बवासीर का इलाज कर सकता है इसके बारे में आपने जान लिया है| केले का छिलके के साथ साथ केले के तने का रस भी बवासीर के मस्सो का इलाज करने में सहायक साबित होता है| केले के तने के रस में मौजूद गुण त्वचा को सिकोड़ने, शरीर से विषाक्त पदार्थों को समाप्त करने के साथ साथ बवासीर के संक्रमण को बढ़ने से रोकने में मदद करते है, इसके अलावा तना के रस में मौजूद पोषक तत्व आंतो के लिए लाभकारी होते है मल त्यागने में मदद करते है। केला से बवासीर का इलाज करने के लिए सबसे पहले किसी केले के पेड़ की पतली टहनी को काट दें, जब आप टहनी को काट देंगे तो उसमे से द्रव निकलेगा उस द्रव को किसी शीशी या बर्तन में लें लें| फिर केले के तने के रस को बवासीर के मस्सो पर लगा लें, जल्द ही बवासीर के मस्से सूखने लगते है, लेकिन एक बात का ख्याल रखें की केले के तने का रस बवासीर की शुरूआती अवस्था में लाभदायक हो सकता है, इसीलिए हम सलाह देंगे की केले के तने का रस लगाने से पहले वेध या चिकित्सक से परामर्श जरूर लें|

केले के बीज और जड़ से करें बवासीर का इलाज

प्राचीन समय में प्रत्येक बिमारी का इलाज औषधीय से ही किया जाता था, प्राचीन समय के वेध केले की जड़ और बीज के द्वारा एक दवा या गोली तैयार करते थे जो कब्ज और बवासीर की परेशानी को खत्म करने में सहायक होती है| हालाँकि आज के समय यह गोली मिलना आसान नहीं है लेकिन वेध या पंसारी के पास आपको यह गोली मिल सकती है, इस गोली को आप बवासीर की टेबलेट भी कह सकते है|

कत्था और केला से बवासीर का इलाज (Kela Se Bawaseer Ka Ilaj In Hindi)

बवासीर की परेशानी से छुटकारा दिलाने के लिए आप कत्था और केला से बवासीर का इलाज कर सकते है| इस उपाय को करने के लिए आप क्या पॉउडर और पके हुए केले की जरुरत होती है, कत्था पॉउडर आपको पान वाले की दुकान या पंसारी की दुकान से ले सकते है| सबसे पहले एक पका हुआ केला लेकर उसे बीच में से दो भागो में काट लें, फिर कटे हुए दोनों केलो में थोड़ा सा कत्था पॉउडर छिड़क कर रात भर के लिए रख दें, फिर अगली सुबह उठकर खाली पेट केले के दोनों टुकड़ो का सेवन कर लें| नियमित रूप से सुबह खाली पेट इस घरेलू नुस्खे का इस्तेमाल करने से जल्द बवासीर की परेशानी से आराम मिलता है| लेकिन यह नुस्खा बवासीर की गंभीर अवस्था का इलाज करने में असमर्थ होता है बवासीर की गंभीर अवस्था में डॉक्टर से इलाज करना चाहिए|

कपूर और केला से बवासीर का इलाज

भीमसेनी या देसी कपूर और केला से बवासीर का इलाज कैसे करें यह सवाल भी काफी लोगो के मन में होता है, चलिए हम आपको बताते है की इस घरेलू नुस्खे को कैसे किया जाता है| कपूर और केला से बवासीर का इलाज करने के लिए सबसे चने के बराबर आकार का कपूर का टुकड़ा लेकर उसके छोटे छोटे टुकड़ें कर लें, फिर एक पका हुआ केला लेकर उसके बीच-बीच में कपूर के टुकड़े भरके लगभग 30 से 40 मिनट के लिए छोड़ दें| फिर इस केले का सेवन कर लें, कपूर और केला से बवासीर का इलाज के उपाय को नियमित रूप से सुबह खाली पेट करने से कुछ दिनों में ही आपको बवासीर की परेशानी से आराम मिलता है| इस घरेलू उपाय का पूर्ण और जल्दी लाभ लेने के लिए वैध या चिकित्सक की सलाह से अपनाएँ।

बवासीर में केला के फायदे, पाइल्‍स में केला खाने के फायदे

बहुत से इंसानो के मन में यह सवाल होता है की बढासीर में केला खाने के फायदे कया है ? या पाइल्स में केला खाना फायदेमंद होता है या नहीं| दरसल बठासीर या पाइल्‍स की परेशानी से पीड़ित इंसान के लिए केला काफी ज्यादा फायदेमंद होता है, केले में मौजूद पेक्टिन, कार्बोहाइड्रेट्स, औषधीय, एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटी-बेक्टीरियल गुण बवासीर या पाइल्स के लक्षण को कम करने में मददगार साबित होते है, चलिए अब हम आपको बवासीर में केला खाने के फायदों के बारे में जानकारी उपलब्ध करा रहे है –

  • केले में मौजूद फाइबर, कार्बोहाइड्रेट्स और आने पोषक तत्व पाचन तंत्र को बेहतर बनाते है और केला मल को मुलायम करने में मददगार साबित होता है| जब किसी भी इंसान का मल मुलायम हो जाता है तो इंसान को मल व्यागते समय ज्यादा जोर लगाने की जरुरत नहीं होती है, अगर आप बवासीर की समस्या से पीड़ित है तो मल व्यागते समय होने वाले दर्द से बच सकते है| अगर
  • मल कठोर होता है तो इंसान को ज्यादा जोर लगाना पड़ता है और कुछ मामलो में काफी ज्यादा दर्द भी झेलना पड़ता है।
  • अगर आप बवासीर की परेशानी से ग्रसित है और आप सूजन का सामना कर रहे है तो सूजन को कम करने में केला लाभदायक हो सकता है| केले में सूजन रोधी गुण पाएं जाते है जो सूजन को कम करने में असरदायक होते है| बवासीर में दर्द होने का कारण सूजन भी होती है ऐसे में केले का सेवन करने से सूजन कम होने में मदद मिलती है।
  • बासीर में इन्फेक्शन फैलने का खतरा भी काफी रहता है, केले में मौजूद एंटी बैक्टीरिया गुण और तत्व संक्रमण को रोकने में सहायक होते है| बवासीर में खुजली और गुदा के पास इन्फेवशन फैलने का खतरा ज्यादा होता है ऐसे में केले का सेवन करने से खुजली कम होने के साथ साथ गुदा के आस पास के क्षेत्र में इन्फेकशन फैलने का खतरा भी कम हो जाता है।
  • बवासीर की परेशानी से पीड़ित महिला या पुरुष को तेज दर्द का सामना भी करना पड़ता है, ऐसे में केला इस दर्द को कम करने में सहायक होता है| दरसल केले में मौजूद एनाल्‍्जेसिक गुण बवासीर के दर्द को कम करने में मददगार होते है, इसीलिए केला खाने से बवासीर के दर्द में आराम मिलता है|

निष्कर्ष –

हम आशा करते है की आपको हमारे लेख केला से बवासीर का इलाज या केला से पाइल्‍स का इलाज में दी गई जानकारी पसंद आई होगी लेकिन अगर आपको हमारे द्वारा बताई गई जानकारी कम लग रही है तो आप गूगल या बिंग पर केला से बवासीर का इलाज या केला से पाइल्‍स का इलाज लिखकर सर्च करके और अधिक जानकारी प्राप्त कर सकते है|

By Bryan

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *